भूगोल भारत नोट्स

भारत में जल विद्युत

भारत में जल विद्युत

  • भारत में नदियों में अनुमानित कुल जलविद्युत क्षमता 145000MW है।
  • अगस्त-2020 तक देश में जलविद्युत की स्थापित क्षमता 45699MW है। जोकि देश की कुल स्थापित क्षमता का 12.3% है।
  • जल विद्युत एक नवीकरणीय ऊर्जा स्रोत है। इसके साथ ही यह पर्यावरण सहयोगी ऊर्जा स्रोत भी है।
  • जल विद्युत को श्वेत कोयला भी कहा जाता है।
  • बड़ी जलविद्युत परियोजनाए परम्परागत स्रोत के अंतर्गत आती है क्योकि बड़ी जलविद्युत परियोजनाए पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी को हानी पहुँचाती है। परन्तु छोटी जलविद्युत परियोजनाए(25MW या उससे कम) गैर-परम्परागत स्रोत के अंतर्गत रखी जाती है।
  • देश में सर्वाधिक जलशक्ति विभव, ब्रह्मपुत्र बेसिन में उपस्थित है। इसके बाद प्रायद्वीपीय भारत की पूर्व की ओर बहने वाली नदियां आती हैं।
  • देश में सर्वाधिक जल शक्ति का विकास प्रायद्वीपीय भारत में ही हुआ है।
  • विषम धरातल एवं उपभोग केंद्रों(बड़े शहर) से दूरी के कारण हिमालय क्षेत्र में जल शक्ति का सीमित विकास ही हो पाया है।
  • देश में प्रथम जलविद्युत संयंत्र दार्जिलिंग के सिद्रपोंग में 1897 में स्थापित हुआ, इसकी क्षमता 130 किलोवाट थी । इसके बाद कर्नाटक के शिवसमुद्रम(कावेरी नदी पर) में 1902 में दूसरा जल विद्युत संयंत्र स्थापित किया गया।
  • देश में सर्वाधिक जलशक्ति की संस्थापित क्षमता वाला राज्य आंध्र प्रदेश है। जबकि सर्वाधिक जलविद्युत का उत्पादन हिमाचल प्रदेश में होता है।

हमारे बारें में

एग्जाम टॉपर क्लास टीम

My Name is Jitendra Singh (Rana) और मैं एक सफल शिक्षक बनने की तैयारी कर रहा हूं ! और मैं लखनऊ, उत्तर प्रदेश (भारत) से हूँ।
मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है ! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कृष्ट अभिलाषा है !!
दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट/विडियो/क्लास अच्छी लगी हो तो इसे Share अवश्य करें ! कृपया कमेंट के माध्यम से बताऐं कि ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Leave a Comment