मध्यकालीन भारत का इतिहास नोट्स

राजपूत राज्यों में साहित्य Literature in the Rajput States

राजपूत राजा साहित्य-प्रेमी और विद्वानों के आश्रयदाता थे। कुछ राजपूत राजा स्वयं विद्वान् और लेखक थे। अपने समय के मुन्ज और राजा भोज प्रसिद्ध विद्वान् थे। राजा मुन्ज एक महान् कवि था और राजा भोज एक लेखक था जिसने नक्षत्र विज्ञान, कृषि, धर्म ललितकला इत्यादि विषयों पर ग्रन्थ लिखे।

इस युग में पालि, प्राकृत, संस्कृत और प्रांतीय भाषाओं में अच्छे ग्रन्थ लिखे गये। जयदेव जो बंगाल के राजा लक्षमण सेन का राजकवि था, ने गीतगोविन्द की रचना की। कवि चंद बरदाई ने अपने आश्रयदाता पृथ्वीराज की प्रशंसा में पृथ्वीराज रासो की रचना की।

कल्हण ने राजतरगिणी की रचना की। कश्मीरी पडित क्षेमेन्द्र ने ग्यारहवीं शताब्दी में अनेक ग्रन्थों की रचना की जिनमें वृहत्कथा मञ्जरीदशावतारचरित और कलाविलास प्रसिद्ध हैं। बारहवीं शताब्दी में संस्कृत् के प्रसिद्ध विद्वान् और कवि श्रीहर्ष ने नैषधचरित की रचना की। श्रीहष कन्नौज के राजा जयचन्द के दरबारी कवि थे।

इस काल में कुछ प्रसिद्ध नाटककार भी हुए। संस्कृत साहित्य के महान् विद्वान भवभूति ने उत्तरामचरित् की रचना की जो संस्कृत साहित्य की अमूल्य कृति है। इसके अतिरिक्त भवभूति ने दो अन्य नाटक, महावीरचरित् और मालतीमाधव लिखे।

भवभूति कन्नौज के राजा यशोवर्मा के सभा-पंडित थे और उनको कालिदास के बाद दूसरा स्थान दिया जा सकता है। प्रसन्नराघव की जयदेव ने रचना की। राजशेखर ने बालरामायणबालभारत और कर्पूर मञ्जरी नाटकों की रचना की। 

कर्पूर मञ्जरी प्राकृत भाषा में लिखी गई उत्कृष्ट रचना है। इस प्रकार राजशेखर ने संस्कृत और प्राकृत दोनों भाषाओं में साहित्य का सृजन किया।

इस समय दार्शनिक साहित्य की भी काफी उन्नति हुई। बौद्ध, जैन और हिन्दू तीनों प्रकार के दर्शनशास्त्रों का राजपूत काल में विकास हुआ।

इस काल में अनेक ऐसे विद्वान् हुए जिन्होंने अपने मतों का तर्क के साथ प्रतिपादन किया। शंकराचार्य (788-820 ई.) ने वेदान्त दर्शन पर शंकर भाष्य,  उपनिषद् भाष्य और गीता भाष्य नामक ग्रन्थ लिखे।

इस समय के प्रसिद्ध दार्शनिक लेखक वाचस्पति मिश्र (नवीं शताब्दी) थे। प्रसिद्ध विद्वान् रामानुज (1140 ई.) का नाम भी उल्लेखनीय है जिन्होंने विशिष्टाद्वैत मत का प्रतिपादन किया।

राजपूत-काल इस प्रकार कला और साहित्य के क्षेत्र में प्रगति का काल था।

हमारे बारें में

एग्जाम टॉपर क्लास टीम

My Name is Jitendra Singh (Rana) और मैं एक सफल शिक्षक बनने की तैयारी कर रहा हूं ! और मैं लखनऊ, उत्तर प्रदेश (भारत) से हूँ।
मेरा उद्देश्य हिन्दी माध्यम में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले प्रतिभागियों का सहयोग करना है ! आप सभी लोगों का स्नेह प्राप्त करना तथा अपने अर्जित अनुभवों तथा ज्ञान को वितरित करके आप लोगों की सेवा करना ही मेरी उत्कृष्ट अभिलाषा है !!
दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट/विडियो/क्लास अच्छी लगी हो तो इसे Share अवश्य करें ! कृपया कमेंट के माध्यम से बताऐं कि ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

Leave a Comment